sex stories in hindi

hindi sex stories

कोई ऐसा अंजाना सा तूफान-4

desi sex stories घर पहुचते ही मोम सामने ही खड़ी डॅड को चाइ दे रही थी, डॅड 50 पार कर चुके थे और काफ़ी दुबली पतली
काया के थे लेकिन मेरी मोम लाइक किरण खेर बादामी कलर की मेक्सी पहने खड़ी थी, पहले कभी मैने मोम को
सेक्सी नज़रो से नही देखा था किंतु अंकुर की मोम की मस्त गुदाज भरी जवानी और मोटे मोटे भारी चुतडो को
देखने के बाद मेरी नज़रे अपनी मोम की मॅक्सी मे पूरी तरह उभरी और चौड़ी गुदाज गान्ड का जायज़ा लेने लगी,
उनकी उम्र लगभग 40 थी और लंबाई और हेल्थ पूरी किरण खेर की तरह थी, मैं उन्हे देखते हुए कुछ ही
पलो मे यह भी सोच गया कि मोम के भारी चूतड़ जीन्स मे क्या मस्त लगेगे और साथ ही यह भी कल्पना आ
गई कि मोम जब इस मॅक्सी मे इतनी जबर्जस्त और फैली हुई नज़र आ रही है तो पूरी नंगी कैसी लगती होगी,
इतना सब मैने कुछ ही समय मे सोच लिया और मेरा लंड जीन्स मे पूरी तरह तन कर खड़ा हो गया, तभी
मेरी मोम सुजाता ने कहा

loading...

सुजाता : अरे रवि वहाँ खड़ा खड़ा क्या सोच रहा है ले चाइ पी ले
मुझे मोम की आवाज़ सुन कर जैसे होश आया, आज पहली बार मैने अपनी मोम की गुदाज जवानी को पीने की नज़रो
से देखा था, चाइ का कप लेते हुए जब मेरी नज़र मा के मोटे मोटे तरबूजो पर पड़ी तो मेरा लंड मस्ती मे
झूम गया
थोड़ी देर बाद मैं फ्रेश होकर कॉलेज के लिए निकल गया, रिया दी पहले ही कॉलेज आ चुकी थी, जब मैं
कॉलेज के अंदर गया तो मुझे जतिन मिल गया, हमेशा की तरह वह कॉलेज के गेट के पास की पार्किंग पर
दो तीन लोंडो के साथ खड़ा लोन्डियो को जाते हुए उनके चुतडो और बोबो को घूरता दिख रहा था, मुझे देख
कर उसने एक स्माइल देकर मुझे आने का इशारा किया जब मैं उसके पास पहुचा तब तक वह अपने पास खड़े दोनो
लोंडो को वहाँ से जाने का बोला और एक बाइक की सीट पर अपना हाथ रखते हुए मुझे बैठने का इशारा किया
जतिन : और रवि क्या हाल है, आज तू बाद मैं आ रहा है तेरी दीदी तो अकेली आई थी
रवि : हाँ वो कल मैं अंकुर के घर पर ही सोया था और उसके घर पर कोई नही था तो हमने छोटी मोटी पार्टी
कर ली थी
जातीं : यार कभी हमे भी अपनी पार्टी मे शामिल कर लिया करो, वैसे परसो शाम को मैने और अंकुर ने भी
पार्टी की थी,
रवि : चौंकते हुए, अरे वाह पर अंकुर ने मुझे बताया नही
जतिन : अबे वह तो तुझे बहुत सी बाते नही बताता होगा बड़ा मतलबी है
रवि : क्यो ऐसा क्या कर दिया उसने जो तू ऐसी बात कह रहा है,
जतिन : देख रवि उसके पास हमारी बाते नही जाना चाहिए तू नही जानता वह बड़ा हरामी है
रवि : अरे खुल के बता ना क्या बात है
जातीं : रहने दे यार तुझे बुरा लगेगा
रवि : अरे नही लगेगा बुरा तू बता ना
जतिन : पहले वादा कर तू उसे कुछ नही कहेगा

रवि : यार जतिन मैं तुझे अपना सबसे अच्छा दोस्त मानता हू फिर भी तू मुझ पर यकीन नही कर रहा है
जतिन : मुझे यकीन है कि तू उसे कुछ नही बोलेगा लेकिन बात ही ऐसी है कि तू कही बुरा ना मान जाए
रवि : चल मैं तेरी कसम ख़ाता हू कि बुरा नही मानूँगा
जातीं : यार परसो हम दोनो जब पी कर मस्त हो रहे थे तब मैने सेक्सी टॉपिक छेड़ दिया और फिर..
रवि : और फिर क्या
जातीं : यार मैं कैसे कहु मुझे अच्छा नही लग रहा है
रवि : अब बोल भी
जातीं : दरअसल अंकुर तेरी मोम सुजाता के बारे मे गंदी बाते कर रहा था
रवि : क्या कह रहा था पूरी बात बता ना
जातीं : मेरे चेहरे को गौर से देखता हुआ बोला, वह कह रहा था कि उसे तेरी मोम बहुत सेक्सी लगती है,
उसकी बातो से ऐसा लग रहा था जैसे वह तेरी मोम के भारी चुतडो को बहुत लाइक करता है,
रवि : और क्या बोल रहा था
जातीं : उसने उस रात को बस तेरी मोम की ही बाते की और मुझे लगता है उसकी नज़र तेरी मोम पर खराब है
रवि : हरामी है साला और मुझे अपना दोस्त कहता है
जतन : रवि को गौर से देखते हुए, क्या बात है रवि इतनी बड़ी बात सुन कर भी तू नॉर्मल है मैं तो तुझे
बताने मे बड़ा घबरा रहा था

रवि : अरे यार जतिन अब जमाना ही ऐसा है मैं किस किस का मूह बंद करूँगा, आज कल तो हर आदमी दूसरी
औरतो के चुतडो और बोबो को देखता है, हम भी तो यहाँ से आती जाती लड़कियों की गान्ड देखते है कि नही
पर अच्छा हुआ तूने मुझे बता दिया हरामी को मैं अच्छा दोस्त मानता था लेकिन अब उसका भरोसा नही करूँगा
जतिन : बात तो तू सही कह रहा है प्यारे इन लड़कियों के चुतडो ने मुझे भी पागल कर रखा है, खेर अभी
मैं निकलता हू फिर किसी दिन तेरे साथ बैठेंगे
मैं वहाँ से क्लास मे चला गया और बैठे बैठे सोचने लगा कि बहन्चोद मेरे दोस्त भी कैसे है एक मेरी
मोम के चुतडो पर फिदा है और दूसरा मेरी बहन की गदराई गान्ड का दीवाना है और मुझे अभी तक होश ही
नही था,

क्लास के बाद मे बेशब्री से दीदी का इंतजार करने लगा और कुछ देर बाद वह मुझे आती हुई नज़र
आई, वही कसी हुई जीन्स और टीशर्ट मे एक दम पटाका लग रही थी उसके दूध टीशर्ट मे समा नही रहे थे
और चूतड़ तो लग रहा था कि जीन्स फाड़ कर बाहर आ जाएगे, आज पहली बार अपनी दीदी की मोटी गान्ड और कसे
हुए दूध देख कर मेरा लंड खड़ा हुआ था, मैं तो उसे देखता ही रह गया और वह मेरे एक दम करीब आ कर
मेरे गालो को खिचती हुई बोली
रिया : बहुत पार्टी मना रहा है अपने आवारा दोस्तो के साथ
रवि : अरे दी गाल तो छोड़ो

1Shares
admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sex stories in hindi © 2018 Frontier Theme
error: Content is protected !!