sex stories in hindi

hindi sex stories

कोई ऐसा अंजाना सा तूफान-2

hindi sex kahani मेरे चेहरे पर गुस्से के भाव थे पर अंकुर मुझे बिल्कुल चुप रहने का इशारा करता हुआ उससे बात कर रहा था,
आख़िर मे अंकुर ने फोन कट किया और मैं बोल पड़ा यार अंकुर मैं इसकी मा चोद दूँगा बहन्चोद की फिर उसके बाद
चाहे जो हो
अंकुर : देख भाई मेरी बात ध्यान से सुन सबसे पहली बात तो उससे दूरिया बना ले और दूसरी बात इतना गुस्सा करने की
ज़रूरत नही है वह कोई अकेला ऐसा बंदा नही है जो दूसरे की मा बहनो को चोदने की नज़र से देखता है ऐसे
कई लोग है अब हम सब के बारे मे तो नही जान सकते ना

loading...

रवि : यार मेरा दिमाग़ उस मा के लोड्े के लिए बहुत खराब हो रहा है
अंकुर : चल अब अपना मूड खराब मत कर, आज मैं तुझे पार्टी दे देता हू
रवि : मुस्कुराते हुए क्या बात है लगता है आज तू दारू सारू पिलाने के मूड मे है
अंकुर : अबे तेरे लिए दारू क्या बड़ी बात है
रवि : लेकिन यहाँ तेरे घर मे कैसे पिएगे तेरी मोम नाराज़ होगी तो
अंकुर चिंता मत कर मेरे मोम डॅड दोनो बाहर गये है कल आएगे अब तू बस अपने घर फोन करके बता दे कि तू
आज मेरे यही सोएगा
मैने तुरंत फोन किया और रिया दीदी ने फोन उठाया वह मुझसे 2 साल बड़ी थी इसलिए मैं उसे दीदी ही कहता था,
रवि : दी आज मैं अंकुर के यही रुक रहा हू तुम मोम को बता देना
रिया : अरे रवि तेरा वह अंकुर तो बिगड़ कर ढूल हो गया है और उसने तुझे भी बिगाड़ दिया है मैं जानती हू तुम
दोनो का पीने का प्रोग्राम होगा
रवि : मुस्कुराते हुए अब जानती हो तो बोलती क्यो हो
रिया : लगता है आज मोम को मैं बता ही दू कि तू ड्रिंक करने लगा है
रवि : मुश्कूराते हुए, मैं जानता हू कि तुम यह कभी नही बताओगि, मेरी स्वीट डार्लिंग सिस
रिया : मंद मंद मुश्कूराते हुए, चल मस्का मत लगा, तू जानता है कि तेरी ग़लतिया तेरी दीदी किसी को बताती
नही है इसीलिए तू इतना बिगड़ गया है

रवि : मुस्कुराते हुए, इसका मतलब यह है दी कि तुम्ही ने मुझे बिगाड़ा है
रिया : मैने बिगाड़ा है तो मैं सुधारना भी जानती हू
रवि : दीदी मैं तो और भी बिगड़ता जा रहा हू तुम्हारे साथ रह रह कर
रिया : क्या मैं खुद बिगड़ी हुई हू जो तुझे बिगाड़ूँगी
रवि : मुझे क्या पता तुम मुझे बताती ही कहाँ हो
रिया : ओये मैं कोई बिगड़ी नही हू वो भी तेरी तरह
रवि : हँसते हुए वो तो वक़्त बताएगा कि तुम बिगड़ी हो या नही, अगर नही बिगड़ी होगी तो मैं तुम्हे बिगाड़ दूँगा

रिया : मुश्कूराते हुए क्यो मुझे भी अपने जैसा बनाना चाहता है क्या,
रवि : बन जाओ दीदी फिर हम दोनो मिल के मौज करेंगे
रिया : मंद मंद मुश्कूराते चल अब ज़्यादा बाते ना बना मुझे नही करना तेरे साथ मौज, खाना खा लेना और
टाइम पर कॉलेज पहुच जाना
रवि : ओके दीदी
अंकुर : रवि तू टीवी देख मैं 10 मिनिट मे नहा कर आता हू,
रवि : अबे जल्दी आना नही तो मैं बोर हो जाउन्गा
अंकुर : एक काम कर जब तक मैं नहाता हू तब तक तू मेरे पीसी पर एक फॅमिली फोल्डर है उसके पिक्स देख
रवि : हाँ यह ठीक रहेगा, तू जल्दी नहा ले मैं पीने की भी व्यवस्था जमाता हू

अंकुर के जाने के बाद मैं उसके पीसी पर उसके घर के खिचे हुए फोटो देखने लगा, पर फोटो देखते देखते
अंकुर की मोम को देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया, अंकुर की मोम छोटे कद की लेकिन हेल्थि औरत थी यही
कोई 43 की उमर थी, पर उसके मोटे मोटे दूध और उभरा हुआ पेट गहरी नाभि और फैले हुए भारी चुतडो
ने मेरा लंड खड़ा कर दिया था उसमे कुछ फोटो तो बड़े ही सेक्सी थे जिसमे अंकुर की मोम केवल पेटिकोट और
वाइट कलर की ब्रा ही पहने थी, लेकिन मेरा लंड तब झटके मारने लगा जब मैने अंकुर की मोम को चुस्त
जीन्स और एक पतली सी टी-शर्ट मे देखा, क्या मस्त रंडी नज़र आ रही थी उसके मोटे मोटे दूध लग रहा
था कि टी-शर्ट फाड़ कर बाहर आ जाएगे अंदर उसने ब्रा भी नही पहनी हुई थी और उसके मोटे मोटे चौड़े
चूतड़ उसकी जीन्स मे खूब कसे हुए भरे भरे नज़र आ रहे थे,
पिक्स मे कही कही ही अंकुर और उसके
पापा के फोटो थे बाकी अधिकतर पिक्स उसकी मोम गीता के ही पिक्स थे, मुझसे कुर्सी पर आराम नही मिल रहा
था सो मैने पिक्स देखते हुए बेड पर रखे तकिये को जैसे ही उठाया उसके नीचे रखी गुलाबी कलर की
नेट वाली पैंटी देख कर मैं सोच मे पड़ गया, मैने उस पैंटी को उठा कर उसे फैला कर देखा और सोचने
लगा कि अंकुर के घर मे उसकी मा के अलावा और कोई औरत तो है नही तो फिर यह उसकी मम्मी गीता की ही
पैंटी होगी,
मेरा लंड खड़ा हो गया था और मैं अंकुर की मोम की पैंटी को सुघने लगा और उसे चूमते हुए
अंकुर की मोम की फूली हुई चूत की कल्पना करने लगा, फिर मैने उसकी मोम की पैंटी को फैला कर देखा और
उसकी मोम की गुदाज मोटी गान्ड का अंदाज़ा लगाने लगा, कुछ देर बाद मैने उस पैंटी को वापस तकिये के नीचे
रख दिया और सोचने लगा कि यहाँ अंकुर सोता है तो उसकी मोम की पैंटी उसके तकिये के नीचे क्या कर रही है,
कही अंकुर अपनी मोम की पैंटी को सूँघता तो नही है, इसका मतलब यह हुआ कि अंकुर अपनी मोम को चोदना चाहता
है, नही नही ऐसा कैसे हो सकता है वह उसकी मोम है, मुझे इस बात का पता करना होगा लेकिन कैसे,
मैं बैठा बैठा सोच रहा था तभी मेरे दिमाग़ मे एक आइडिया आया क्यो ना मैं फेक आइडी बना कर अंकुर से चॅट
करू, हाँ यह आइडिया मस्त रहेगा इससे पता चल जाएगा कि उसके अंदर इन्सेस्ट वाली फीलिंग है या नही, तभी
अंकुर आ गया और
अंकुर : तू बोर तो नही हुआ
रवि : नही बस तेरे फॅमिली पिक्स के साथ टाइम पास कर रहा था, अंकुर ने ग्लास मे ड्रिंक सर्व किया और हम
दोनो पीने लगे एक एक ग्लास अंदर जाते ही मस्ती आने लगी,

अंकुर : अभी यह बता जतिन के साथ पार्टी मे जाएगा या उसे अवाय्ड कर देगा
रवि : सवाल ही नही उठता उसकी अम्मा को चोदु, साले के उपर गुस्सा तो ऐसा आ रहा था कि साले का गला दबा दू
अंकुर : अबे तू बेकार मे उसकी बातो को माइंड करता है, जैसी बाते वह कर रहा था वैसे बाते ना जाने कितने लोग
करतेहोंगे, अब आज कल का पहनावा ही ऐसा है कि लड़किया जब जीन्स पहनती है तो उनके मोटे मोटे चूतड़ अलग
ही नज़र आते है,
रवि : बात तो तू सही कह रहा है, हम भी तो कॉलेज की मस्त लोन्डियो के भारी चुतडो पर कॉमेंट्स करते है
अंकुर : सच पूछ तो मुझे तो लोन्डियो के जीन्स मे कसे भारी चूतड़ बहुत ही अच्छे लगते है
रवि : हाँ तू सही कह रहा है लेकिन लड़कियो से भी ज़्यादा मस्त तो उन औरतो के चूतड़ अच्छे लगते है जो 40 50
की होने के बाद भी अपनी मोटी मोटी गान्ड पर जीन्स फसाए घूमती है
अंकुर : हाँ यार यह तो तूने मेरे मन की बात बोल दी, मुझे भी बड़ी उमर की भारी चूतड़ वाली लेडी बहुत पसंद

आती है खास कर जब उन्होने अपने भारी चुतडो पर जीन्स फसा रखी हो
रवि : साला जब तक पूरी एक क्वाटर अंदर नही जाती तब तक मज़ा ही नही आता है
अंकुर : लगता है तुझको चढ़ गई है
रवि : अबे तेरी नशीली बातो ने और भी असर कर दिया है, मैने अपने लंड को अड्जस्ट करते हुए कहा क्यो कि
मुझे तो अंकुर की मोम की जीन्स मे फसे हुए भारी भरकम चूतड़ याद आ रहे थे
रवि : पर यार ऐसी भारी गान्ड वाली औरते ज़्यादा देखने को नही मिलती है
अभी हम बाते करते हुए जाम पर जाम लगा रहे थे तभी मेरा मोबाइल बजा और उस पर रिया दी लिखा हुआ था
मैने अंकुर की ओर देखा और वह मुस्कुराते हुए कहने लगा यार ये तेरी रिया दी को भी तेरे बिना चैन नही
रहता ना जाने तूने क्या जादू किया हुआ है अपनी दीदी पर, मैने अंकुर की बात सुन कर मुस्कुराते हुए फोन
रिसीव किया
रिया : क्या कर रहा है भैया ?
रवि : कुछ नही दी बस तुम्हारी ही बाते कर रहा था
रिया : अंकुर भी वही है
रवि : हाँ सामने बैठा है

रिया : मूह फुलाते हुए, क्या बाते कर रहा था तू मेरे बारे मे
रवि : यही कि मेरी दी बहुत अच्छी है
रिया :गुस्सा दिखाते हुए, रवि झूठ मत बोल सच सच बता
रवि : ओफ्फ दी कुछ नही मैं मज़ाक कर रहा हू
रिया : तू सुबह कॉलेज मे मिल मैं तुझे वही बताती हू, और अच्छा एक बात तो सुन संजू आया था तुझे पूछने
रवि : अच्छा वो गाँव से आ गया मतलब
रिया : चल मैं फोन रखती हू
रवि : ओके
अंकुर : क्या हुआ दीदी गुस्सा थी क्या
रवि : नही यार हम दोनो के बीच ऐसी ही नोक झोंक चलती है
अंकुर : यार तुम दोनो को देख कर कई बार मुझे भी ऐसा लगता है कि काश मेरी भी कोई बहन होती
रवि : अबे इसमे सॅंटी होने की क्या बात है क्या रिया दी तेरी दीदी नही है
अंकुर : हाँ वो बात तो है
उस रात हम पी कर फिर बाहर खाना खाने के लिए होटेल मे गये और फिर देर रात अंकुर के घर पर आ कर सो
गये

1Shares
admin
Updated: September 11, 2018 — 2:58 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sex stories in hindi © 2018 Frontier Theme
error: Content is protected !!