sex stories in hindi

hindi sex stories

दीदी को जीजा से चुदते देखा

jeeja or didi  sex kahani हेल्लो दोस्तों मेरा नाम अनूप है और मैं रहने वाला सीतापुर का हूँ | मैं सेक्सी कहानियों का कोई लेखक नही हूँ पर मैं सेक्सी कहानी कभी अरसे से पढता आ रहा हूँ | मैं कहानी पढने का बहुत शौकीन हूँ और अभी तक जो कहानी पढ़ी है वो कहानी मुझे बहुत पसंद आई हैं | मैं आज एक कहानी आप लोगो के सामने प्रस्तुत करने जा रहा हूँ | मैं जो आज कहानी प्रस्तुत करने जा रहा हूँ ये मेरे जीजा और दीदी की चुदाई की कहानी है जो मैंने अपनी आँखों से देखा था | दोस्तों कहानी को आगे बढ़ाने से पहले आप लोगो को अपने बारे में बता देता हूँ | मेरी उम्र 18 साल है और मैं अभी 12 वीं में पढता हूँ | मैं दिखने में काफी हट्टा कट्टा हूँ और मेरी बॉडी भी ठीक ठाक है | मैं अब आप लोगो को अपनी दीदी और जीजा के बारे में बाते देता हूँ और फिर कहानी शुरू करता हूँ | मेरे जीजा जी का नाम सोनू है और वो दिखने में किसी हीरो से कम नही लगते हैं | उनकी हाईट काफी ठीक ठाक है और उनकी हाईट के हिसाब से बॉडी बहुत ठीक है | मेरी दीदी का नाम लक्ष्मी है और वो दिखने में दूध की तरह गोरी हैं और उनका फिगर बहुत सेक्सी हैं | मेरी दीदी की उम्र 24 साल है | दोस्तों मैं आप सभी लोगो से आशा करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आएगी और इस कहानी को पढने में आप लोगो को मज़ा भी आयेगा | मैं अब टाइम को न बर्बाद करते हुए सीधे कहानी पर आता हूँ |

loading...

ये कहानी अभी कुछ दिन पहले की है जब मैं अपने जीजा जी के घर गया था | दोस्तों मेरी दीदी की शादी के बाद मैं अपनी दीदी के घर जाया करता था | मेरे जीजा जी के घर उनके मम्मी और पापा रहते हैं | एक दिन की बात है जब जीजा जी ने मुझे कुछ काम से अपने घर बुलाया था तो मैं उस दिन अपना सारा काम छोड़ कर अपने जीजा जी के घर चला गया | उन दिनों मेरी छूट्टी भी चल रही थी तो मैं इसलिए चला गया | मैं जब जीजा जे के घर गया तो मुझे उस दिन जीजा जी अपने साथ ले गए और मैंने उनका काम कराया | फिर जीजा का वो काम 3 दिनों तक ऐसे ही चलता रहा जिसकी वजह से मैं उनके घर ही रुका रहा | दोस्तों उस दिन की बात है जब में लेटा सो रहा था और मेरी आंख खुली तो मुझे प्यास लग रही थी | मैं उठ कर गया और फ्रिज से पानी निकला और पीने लगा | फ्रिज जो थी वो उनके रूम के पास ही थी तो मैं जब पानी पी रहा था तो मुझे जीजा के कमरे से कुछ आवाज सुनाई दी | तब मैं खिड़की के पास गया और खिड़की को थोडा सा खोल दिया | मैं खिड़की को खोल कर देखने लगा तो देखा की जीजा जी दीदी को अपने बाँहों में भर कर चूम रहे थे | दीदी बिस्तर पर लेट कर मज़े ले रही थी | मेरा मन पहले तो हुआ की जाके लेट जाता हूँ | फिर हुआ की देखता हूँ की आगे क्या होता हैं और मैं चुप चाप खड़ा हो गया | जीजा जी दीदी के चेहरे को चूम रहे थे और दीदी उनके सर को पकड कर अपने गले मे चिपकाये हुए थी |

मेरे जीजा जी पुरे जोश में लग रहे थे और दीदी अभी भी शांत थी | पर जीजा जी दीदी को गर्म कर रहे थे और दीदी को चूम रहे थे | दीदी कुछ देर तक तो ऐसे ही नखरे करती रही और फिर वो भी जीजा जी को अपनी बाँहों में भर कर जोर जोर से अंगड़ाई लेने लगी | मैं ये सब खिड़की के पास से देख कर मज़े ले रहा था और ये सब देख कर अपने लंड को सहलाने लगा | जीजा जी ने दीदी को भी गर्म कर दिया और उनकी होठो को पर अपनी होठो को रख कर चूसने लगे | वो दीदी की रसीली होठो को चूसने लगे | दोस्तों मेरी दीदी शादी के पहले भी अपने बॉयफ्रेंड से बहुत चुदी थी | मैं दीदी के बॉयफ्रेंड को अच्छे से जनता हूँ पर मैं तब छोटा था तो ये सब नही जनता था | मैं इसलिए दीदी को उसके साथ कमरे में जाने देता था जब वो मेरी दीदी की ठुकाई करने के बाद बाहर आता तो मुझे रूपये देता और मैं ले लेता था | उस टाइम मेरी दीदी बहुत ही मस्त माल थी | मेरी दीदी की जवानी का मज़ा तो उनके बॉयफ्रेंड ने लिए था | जीजा जी दीदी को होठो को चूस रहे थे और दीदी जीजा की होठो को जोर जोर से चूस रही थी | जीजा दीदी की होठो को चूसने के साथ उनके मस्त बड़े 36 इंच के बूब्स को कपडे के ऊपर से दबा रहे थे | जीजा की उनकी होठो को कुछ देर तक ऐसे ही चूसने के बाद दीदी के कपडे निकाल दिए जिससे दीदी ब्रा और पैंटी में आ गयी | मैं दीदी को ब्रा पैंटी में देख कर चौंक गया | वो ब्रा और पैंटी में किसी सेक्सी मूवी की हिरोइन से कम नही लग रही थी | दीदी का भरा हुआ बदल जो सोने की तरह चमक रहा था |

दीदी ब्रा और पैंटी में बेड पर लेती हुई थी और जीजा जी उनके ऊपर चढ़ कर उनको चुमते हुए उनकी ब्रा को खोल दिया | जब जीजा ने दीदी की ब्रा को खोल दिया तो दीदी के बड़े बूब्स समने आ गए | अब दीदी के बूब्स को वो हाथ में पकड कर दबाते हुए मुंह में रख लिया और जोर जोर से चूसने लगे | जब वो दीदी के बूब्स को मुंह में रख के दबाते हुए चुसने लगे तो दीदी की सांसे तेज हो गयी | वो दीदी के एक दूध को मुंह में रख कर चूस रहे थे और दुसरे दूध को मुंह में रख कर चूस रहे थे | दीदी जोर जोर से अह अह अह अह… हाँ हाँ उई उई हाँ हुई हाँ उई….. आ आ आ….. सी सी उई सी उई सी उई…. की सिसकियाँ लेने लगी | मैं उनकी ये आवाजे सुनकर जोश में आ गया और अपने लंड को निकाल कर हिलाने लगा | जीजा जी दीदी के बूब्स को दबाने के साथ एक हाथ को दीदी के चूत पर रख कर दिया | वो एक हाथ से बूब्स को दबा रहे थे और दुसरे हाथ को दीदी के चूत पर रख कर चूत को फैला रहे थे | दीदी जोर जोर की सांसे लेती हुई लेटी थी और वो मस्ती के साथ जोर जोर से चूत पर हाथ मारते हुए चूत में ऊँगली घुसा दी | जीजा ने जैसे ही चूत में ऊँगली घुसा दी तो उनकी सांसे और तेज और गयी | फिर जीजा ने दीदी की चूत में अपनी जीभ को घुसा कर चाटने लगे तो दीदी के मुंह से मस्त सेक्सी आवाजे निकल गयी | जीजा दीदी के चूत के दाने को अपनी होठो से पकड कर चूस रहे थे और दीदी आ आ आ आ… अह अह अह हाँ हाँ अह…. हाँ उई हाँ उई अहं उई हाँ ऊई… की सिसकियाँ जोर जोर से लेने लगी | जीजा दीदी की चूत को ऐसे ही कुछ देर तक चाटने के बाद अपने कपडे निकाल दिए और अपने लम्बे और मोटे लंड को हिलाते हुए मुंह में रख लिया | फिर वो लंड को हाथ में पकड कर अन्दर बाहर करती हुई चूसने लगी | जीजा दीदी के सर को कपड कर धक्के मारते हुए चूस रहा रहे थे | दीदी जीजा के लंड को ऐसे ही कुछ देर तक चूसने के बाद उनके लंड को मुंह से निकाल दिया |

तब जीजू ने दीदी की चूत के मुंह पर रख कर घुसा दिया | दीदी के मुंह से मस्त सेक्सी आवाजे निकल गयी | जीजा दीदी के दोनों दूधो को हाथ में पकड कर जोर जोर के धक्को के साथ अन्दर बाहर करते हुए चोदने लगे | वो दीदी के मस्त बूब्स को दबाते हुए चोद रहे थे और दीदी चुदाई का मज़ा लेती हुई चुद रही थी | जीजा जी जब दीदी की चूत में धक्के मारते तो दीदी जोर से उछल पड़ती और चुदाई का मज़ा लेती हुई हा हाँ हाँ हाँ उई उई…. आ हाँ उई आ हाँ उई….. सी हूँ सी हूँ सी हूँ की आवाजे करती हुई चुदाई का मज़ा ले रही थी | जीजा जी दीदी की चूत में ऐसे ही कुछ देर तक चोदने के बाद चूत से लंड को निकाल कर दीदी को घोड़ी की तरह बेड पर खड़े कर दिया | दीदी घोड़ी की तरह बेड पर खड़ी हो गईं और जीजा जी पीछे से चूत में लंड को घुसा दिया और जोरदार धक्को के साथ चोदने लगे | दीदी को अपनी चूत को आगे पीछे करती हुई हर धक्के का मज़ा लेती हुई चुद रही थी और वो उनकी चूत में ऐसे ही कुछ देर तक धक्के मारने के बाद झड गए | जीजा ने अपना माल दीदी की चूत में ही निकाल दिया और फिर जीजा जी लेट गए | तब दीदी अपनी चूत में ऊँगली को डाल कर जोर जोर से हिलाने लगी जिससे दीदी की चूत से एक पानी की धार निकल गयी |

फिर मैं ये सब देख कर लंड को हाथ में पकडे हुए था | दोस्तों मुझे भी अपाने आप पर कंट्रोल नही हो रहा था तो मैं टॉयलेट में गया और मुठ मारने लगा | उस रात मैंने मुठ मार कर अपने लंड का पानी निकाल दिया | ये थी मेरी कहानी | धन्यवाद………….

0Shares
admin
Updated: October 8, 2018 — 5:45 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sex stories in hindi © 2018 Frontier Theme
error: Content is protected !!