sex stories in hindi

hindi sex stories

खूबसूरती और बद्सुरती-12

को छूते ही उसकी चूत में चुबुलाहट काफी तेज होने लगी थी। उसने देखा चाचाजी कूई हरकत नही क्र रहे थे उसी हिम्मत बढ़ गयी…और वो पजामे के ऊपर से ही लंड को मुट्ठी में पकड़ने लगी और दबाने लगी….लंड में अब धीरे धीरे हरकत होने लगी….वो फिर से टाइट होने लगा था….

loading...

सुहानी:-स्स्स्स्स् अह्ह्ह्ह कितना अच्छा लग रहा है स्स्स्स्स् अंकल काश आपने इतनी नहीं पि होती आज उम्म्म्म्म मेरी चूत तो छटपटा रही है स्स्स्स्स्स्स्स अह्ह्ह्ह

सुहानी अपनी चूत को पजामे के ऊपर से ही सहलाने लगी।

सुहानी:-स्स्स्स्स् अह्ह्ह्ह कितना पानी छोड़ रही है उम्म्म्म्म्म इतना तो कल भी। *नही गीली हुई थी….उसे अचानक से समीर का लंड याद आ गया….उसने चाचाजी का पजामा के बटन खोले और थोडा ढीला क्किया….वो बिनधास्त थी क्यू की उसे पता था की चाचाजी बेहोश है….और अगर होश में भी आ जाते है तो उसे अब। डर नहीं था…उसने उनकी अंडरवियर के साथ पजामा निचे किया और दूसरे हाथ से लंड को बाहर निकाला…लंड फिर से थोडा मुरझा गया था….उसने देखा चाचाजी का लंड उस अवस्था में भी काफी बड़ा लग रहा था। उसने धीरे से मुट्ठी में पकड़ा और उसकी चमड़ी को निचे किया….उनके लंड का लाल सुपाड़ा जो प्रीकम से चमक रहा था वो सुहानी के आँखों के सामने था।

सुहानी:- स्सस्सस्सस क्या मस्त चीज होती है ये लंड उम्म्म्म्म अह्ह्ह्ह्ह

सुहानी उसे धीरे धीरे मुट्ठी में पकड़ के ऊपर निचे करने लगी…लंडमें फिर से *तनाव आने लगा। सुहानी एक हाथ से लंड को मुठिया रही थी और दूसरे हाथ से अपने पैंट में दाल के अपनी चूत के दाने को सहला रही थी।

सुहानी:- अह्ह्ह्ह्ह्ह स्सस्सस्स उफ्फ्फ्फ्फ़ ककित्न मोटा हो गया है ये स्सस्सस्सस अह्ह्ह्ह्ह ले लू क्या इसे चूत में स्स्स्स्स्स्स्स *अह्ह्ह्ह नही स्स्स्स्स् दर्द होगा अह्ह्ह्ह कितना मोटा है ये स्स्स्स्स्स्स्स मेरी तो चूत फट जायेगी अह्ह्ह्ह्ह्ह स्स्स्स्स्स्स्स

सुहानी उत्तेजना के सातवे आसमान पे थी। उसका हाथ प्रीकम से पूरा गिला हो चूका था उसने देखा और उसे सूंघने लगी….उसे वो महक बहोत अछि लगी….तभी उसे समीर की लंड चूसने वाली बात याद गयी। वो धीरे धीरे अपना चेहरा लंड के पास ले गयी और देखने लगी उसे प्रीकम की महक और तेज आने लगी…उसने लंड के सुपाड़े को नाक से सुंघा …और फिर धीरे से थोड़ी सी जुबान बाहर निकल के चाटा…

सुहानी:- अह्ह्ह्ह उम्म्म्म बहोत अजीब सी टेस्ट है स्स्स्स पर अछि है…शायद इसीलिए वो निशा उस लड़के का लंड इतने चाव से चूस रही थी…

सुहानी ने फिर से थोडा जुबान से चाचाजी का लंड को चाटा…और फिर पागलो की तरह चाटने लगी और फिर मुह में लेके चूसने लगी इसे बहोत मजा आने लगा था। इधर वो अपनी चूत में ऊँगली डाल के अंदर बाहर करने लगी थी।

सुहानी:- मन में …उफ्फ्फ्फ्फ़ मैं ये क्या कर रही हु स्स्स्स्स् अह्ह्ह्ह बहोत मजा आ रहा है लंड चूसने में अह्ह्ह्ह्ह स्स्स्स उफ्फ्फ्फ़ हाय अह्ह्ह्ह्ह्ह

मेरा तो पानी छूटने वाला है स्स्स्स्स्स्स्स

तभी चाचाजी ने कुछ हलचल की…वो बेहोशी में ही अह्ह्ह्ह्ह स्सस्सस्स करते हुए अपनी कमर हिलाने लगे और सुहानी के सर को पकड़ के लंड पे दबाने लगे….सुहानी ने तिरछी आँखों से देखा उनकी आँखे बंद थी। सुहानी ने अपना काम जारी रखा क्यू की वो भी अब झड़ने के कगार पर थी।

सुहानी:-उम्म्म्म्म्म्म्म आआआआऊऊऊऊऊऊम्मम्मम्मम्मम

सुहानी ने अपने हाथ और मुह की रफ़्तार तेज कर दी थी वो झड़ने लगी थी इधर चाचाजी ने सुहानी का सर अपने लंड पे जोर से दबा दिया….और उसके मुह के अंदर ही पिचकारी छोड़ने लगे। सुहानी एक अलग ही दुनिया में थी वो बहोत देर ताकक झड़ती रही और इधर मुह में चाचाजी के गरम वीर्य की पिचकारियों को महसूस करती रही। जब उसकी ये खुमारी टूटी तो उसने देखा उसका पूरा मुह वीर्य से भरा हुआ था उसकी अजीब सी टेस्ट और गंध आ रही थी वो बाथरूम में गयी और अपना मुह साफ़ किया…आते वक़्त एक मग में थोडा पानी ले आयी…उसने चाचाजी के कपडे थिक् किये….और फिर थोडा पानी उनके। चेहरे पे मारा….लेकिन चाचाजी उठ ही नहीं रहे थे….उसने थोडा जोर से हिलाया और थोडा जादा पानी मारा…तो चाचाजी एक्दम हड़बड़ा के उठ गए। सुहानी ने उन्हें बताया की बहोत लेट हो गया है…वो भी अब समझ रहे थे की सोना ही बेहतर है इसलिए वो भी किसीतारह अपने कमरे में गए और सो गए….सुहानी ने भी शराब की बोतल और बाकि सामान उनकी गॅलरी में रख दिया और अपने बेड पे लेट गयी….और उसे कब नींद लगी उसे भी पता नहीं चला।

0Shares
admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sex stories in hindi © 2018 Frontier Theme
error: Content is protected !!